सोलंकी का आनंदी बेन पर निशाना, कहा- PM उन्हें दिल्ली बुला लें!

गुजरात

अहमदाबाद। गुजरात में शासन करने की मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल की क्षमता पर सवाल उठाते हुए राज्य के नवनियुक्त कांग्रेस अध्यक्ष भरतसिंह सोलंकी ने उन पर कुशासन का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उन्हें दिल्ली स्थानातंरित करने का अनुरोध किया। हाल में राज्य कांग्रेस के प्रमुख नियुक्त किये गए सोलंकी को गुजरात में पार्टी में नयी जान डालने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है, जहां पार्टी पिछले 25 साल से विपक्ष में है। ग्राम पंचायत से लेकर लोकसभा चुनावों तक हर चुनाव में पार्टी को भाजपा के हाथों शिकस्त झेलनी पड़ी है। 2014 में तो पार्टी 26 लोकसभा सीटों में से एक भी सीट नहीं जीत पायी।

सोलंकी का पहला इम्तिहान अक्तूबर महीने में बड़े पैमाने पर होने वाले स्थानीय निकायों का चुनाव होगा जिसको लेकर दोनों पार्टियां आमने सामने होंगी। प्रधानमंत्री बनने के बाद दिल्ली चले गए पूर्व मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी मुकाबले से गैरमौजूदगी के कारण कांग्रेस के पास एक मौका है। सोलंकी ने पीटीआई-भाषा से कहा कि पहली महिला मुख्यमंत्री पाकर राज्य गौरवान्वित था। लेकिन प्रशासन में वह लगातार गलतियां कर रही हैं। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह करना चाहूंगा कि उन्हें दिल्ली स्थानांतरित कर दें और उनकी जगह पर किसी सक्षम व्यक्ति को गुजरात में मुख्यमंत्री बनाया जाए।

मोदी की गैरमौजूदगी से स्थानीय निकाय चुनावों में कांग्रेस के लिए क्या राह आसान होगी, इस सवाल पर सोलंकी ने जवाब दिया कि उनके शासन में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ा है। पानी लेने, टैंकर के लिए महिलाओं को लंबा रास्ता तय करना पड़ता है क्योंकि सरकार पाइपलाइन के जरिए पानी की आपूर्ति नहीं करती। राज्य सरकार सभी मोर्च पर असफल हुयी है। अहमदाबाद सहित छह नगर निगमों, 253 नगपालिकाओं, 208 तालुक पंचायतों और 26 जिला पंचायतों में अक्तूबर में चुनाव होने हैं।

संप्रग-दो सरकार के दौरान राज्य मंत्री रह चुके सोलंकी ने कहा कि स्थानीय निकाय चुनावों में भाजपा से मुकाबले के लिए वे पूरी तरह से तैयार हैं। सोलंकी ने कहा कि 2014 लोकसभा चुनावों में सभी 26 सीट गंवाने के बाद पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल गिर गया था। उन्होंने कहा कि गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष का पदभार संभालने के बाद से हम पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए कठिन मेहनत कर रहे है और कार्यकर्ताओं का मानना है कि भाजपा से मुकाबला करने का यह सही मौका है क्योंकि उसने करीब 25 साल तक राज्य में शासन किया है।


Comment






Total No. of Comments: