केदारनाथ की यात्रा पर जाने वाले यात्रियों को, भरना पड़ सकता है जुर्माना

उत्तराखंड

रुद्रप्रयाग. केंद्र सरकार ने वर्ष 2019 तक भारत को स्वच्छ बनाने का जो संकल्प लिया है वो अब पूरा होते हुए भी दिखाई रहा है. तीन मई को केदारनाथ के कपाट खुलने वाले हैं जिसको लेकर तैयारियां जोरो पर है. हर छोटी- बड़ी चीज़ों का ध्यान रखा जा रहा है. बता दें, केदारनाथ धाम में यात्रा के दौरान पॉलिथिन का यूज़ बैन कर दिया गया है. सभी यात्री अपने साथ चिप्स  के पैकेट, पानी की बोतलें इत्यादि तो ले जा सकते हैं. लेकिन उन्हें खाली बोतलें और पैकेट पानी में ही फेंकने होंगे. जिसके लिए दो-दो सौ मीटर की दूरी पर कूड़ेदान की व्यवस्था की गयी है. यदि कोई ऐसा नहीं करता है तो उसे पांच सौ रुपये जुर्माना देना होगा.

इसके लिए पूरी निगरानी राखी जाएगी प्रशासन बाहरी राज्यों से आने वाले यात्रियों को भी धाम में स्वच्छता बनाए रखने के लिए जागरूक करेगा. जिलाधिकारी रंजना ने बताया कि यात्रियों को जागरूक करने के लिए जिला पंचायत, पुलिस और प्रशासन की टीमें प्रीपेड काउंटर, सोनप्रयाग, गौरीकुंड, जंगलचट्टी, भीमबली, लिनचोली, बड़ी लिनचोली व केदारनाथ समेत मुख्य कस्बों में तैनात की जाएंगी.

जो भी यात्री केदारनाथ दर्शन के लिए आएंगी ये टीमें उन्हें जानकारी मुहैया कराएंगी. इसके अलावा पैदल मार्ग पर घोड़ा-खच्चरों की लीद को तत्काल साफ किया जाएगा. ताकि पैदल मार्ग पर कोई गंदगी न रहे.

गौरीकुंड में सफाई व्यवस्था का जिम्मा जिला पंचायत के पास रहेगा और केदारपुरी में यह कार्य केदारनाथ नगर पंचायत देखेगी. उन्होंने बताया कि कूड़े को एक स्थान पर एकत्रित कर रिसाइकिलिंग के लिए गौरीकुंड लाया जाएगा. स्वच्छता संबंधी सभी कार्यों की मॉनीटरिंग स्वयं जिलाधिकारी करेंगी.


Comment






Total No. of Comments: